Cyber bullying (साइबरबुलिंग)


 आज के युवा पहले से कहीं अधिक इंटरनेट के उपयोग से प्रभावित हैं।  वे इंटरनेट और मोबाइल फोन सिस्टम को संचार के दो सबसे बड़े ढांचे के रूप में मानते हैं जो हमारी दैनिक गतिविधियों और पहचान के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

दूसरी ओर, इन तकनीकों का अक्सर नकारात्मक उपयोग किया जाता है। कई लोग इंटरनेट को लोगों को ठगी के लिए उपयोग करते हैं। साइबर बुलिंग एक व्यक्ति को धमकाने के लिए इलेक्ट्रॉनिक संचार का उपयोग है, आमतौर पर डराने या धमकी देने वाले संदेश भेजकर।  आजकल किसी के लिए साइबर बुली का शिकार होना या किसी के लिए साइबर बुली होना इतना आसान हो गया है।  ऐसे कई तरीके हैं जिनसे किसी व्यक्ति को साइबर बुली किया जा सकता है।  उदाहरण के लिए, कोई व्यक्ति नकली फेसबुक अकाउंट बनाकर ऑनलाइन किसी व्यक्ति की पहचान चुरा सकता है और ऐसी चीजें कहना और पोस्ट करना शुरू कर सकता है जो आप नहीं करेंगे या कहेंगे। 
इसके बाद, साइबरबुलिंग विभिन्न रूपों में आती है।  जरूरी नहीं कि इसका मतलब किसी की प्रोफाइल हैक करना या किसी और के होने का दिखावा करना हो।  इसमें किसी के बारे में नकारात्मक टिप्पणी पोस्ट करना या किसी को बदनाम करने के लिए अफवाहें फैलाना भी शामिल है।  जैसा कि हर कोई सोशल नेटवर्क पर पकड़ा जाता है, इससे किसी के लिए भी इस एक्सेस का दुरुपयोग करना बहुत आसान हो जाता है।

 दूसरे शब्दों में, साइबरबुलिंग आजकल बहुत आम हो गई है।  इसमें किसी भी व्यक्ति को हेरफेर करने, परेशान करने और बदनाम करने की कार्रवाई शामिल है।  ये शत्रुतापूर्ण कार्य गंभीर रूप से हानिकारक हैं और किसी को भी आसानी से और गंभीर रूप से प्रभावित कर सकते हैं।  वे सोशल मीडिया, सार्वजनिक मंचों और अन्य ऑनलाइन सूचना वेबसाइटों पर होते हैं।  एक साइबरबुली जरूरी नहीं कि एक अजनबी हो;  यह कोई आपका परिचित भी हो सकता है।

साइबर बुलिंग खतरनाक है

 साइबरबुलिंग एक बहुआयामी समस्या है।  हालाँकि, इस गतिविधि का इरादा एक ही है।  लोगों को चोट पहुँचाने और उन्हें नुकसान पहुँचाने के लिए।  साइबरबुलिंग कोई हल्की बात नहीं है।  इसे गंभीरता से लेने की जरूरत है क्योंकि पीड़ित पर इसका बहुत खतरनाक प्रभाव पड़ता है।

 इसके अलावा, यह व्यक्ति के मन की शांति को भंग करता है।  बहुत से लोग साइबरबुलिड होने के बाद अवसाद का अनुभव करने के लिए जाने जाते हैं।  इसके अलावा, वे आत्म-नुकसान में लिप्त हैं।  उनके बारे में किए गए सभी अपमानजनक कमेंट उन्हें हीन महसूस कराते हैं।

 इसके परिणामस्वरूप बहुत सारी असुरक्षाएं और जटिलताएं भी होती हैं।  उत्पीड़न के रूप में साइबरबुलिंग का शिकार होने वाली पीड़िता को आत्म-संदेह होने लगता है।  जब कोई आपकी असुरक्षा की ओर इशारा करता है, तो वे केवल वृद्धि करते हैं।  इसी तरह, पीड़ित चिंता करते हैं और अपनी आंतरिक शांति खो देते हैं।इसके अलावा साइबर बुलिंग से व्यक्ति की छवि भी खराब होती है।  यह उनके बारे में फैली झूठी अफवाहों से उनकी प्रतिष्ठा को बाधित करता है।  सोशल मीडिया पर सब कुछ जंगल की आग की तरह फैल जाता है।  इसके अलावा, लोग अक्सर विश्वसनीयता पर सवाल उठाते हैं।  इस प्रकार, एक झूठी अफवाह लोगों के जीवन को तबाह कर देती है।
साइबर बुलिंग को कैसे रोकें?

 साइबरबुलिंग की रोकथाम समय की मांग है।  इस पर नजर रखने और इसे खत्म करने की जरूरत है।  साइबरबुलिंग से निपटने के कई तरीके हैं।  हम उन्हें व्यक्तिगत स्तरों के साथ-साथ आधिकारिक स्तरों पर भी लागू कर सकते हैं।
सबसे पहले, हमेशा अपने बच्चों को व्यक्तिगत जानकारी ऑनलाइन साझा न करना सिखाएं।  उदाहरण के लिए, यदि आप अपने घर का पता या फोन नंबर वहां सूचीबद्ध करते हैं, तो यह आपको आसानी से साइबरबुलिंग का संभावित लक्ष्य बना देगा।
दूसरे, अपनी स्पष्ट तस्वीरें ऑनलाइन पोस्ट करने से बचें।  साथ ही सोशल मीडिया पर कभी भी पर्सनल मसलों पर चर्चा न करें।  दूसरे शब्दों में, जानकारी को अपने मित्रों और परिवार के समूह में सीमित रखें।

 सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि कभी भी अपना इंटरनेट पासवर्ड और खाता विवरण किसी के साथ साझा न करें।  यह सारी जानकारी अपने तक ही सीमित रखें।  सतर्क रहें और किसी  लिंक्स पर क्लिक न करें, वे खतरनाक हो सकते हैं।  इसके अलावा, अपने बच्चों को साइबरबुलिंग के बारे में सिखाएं और उन्हें इस बात से अवगत कराएं कि क्या गलत है और क्या सही।
अंत में, जागरूकता ऑनलाइन उत्पीड़न को रोकने की कुंजी है।  हमें बच्चों को कम उम्र से ही जागरूक करना चाहिए ताकि वे हमेशा सतर्क रहें।  इसके अलावा, माता-पिता को अपने बच्चों की ऑनलाइन गतिविधियों की निगरानी करनी चाहिए और उनके उपयोग को सीमित करना चाहिए।  सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि साइबरबुलिंग को बिना देर किए तुरंत सूचित किया जाना चाहिए।  इससे आगे की घटनाओं को रोका जा सकता है।

0 Comments